कम्प्यूटर क्या है

कम्प्यूटर एक ऐसा डिवाइस ( Device ) है जो हमारे द्वारा दिए गये आंकड़ों ( Data ) को ग्रहण कर उस पर हमारे द्वारा दिए गये निर्देशों के अनुसार काम करता है और इच्छित परिणाम देता है जिन निर्देशों के आधार पर कम्प्यूटर काम करता है उसे हम प्रोग्राम ( Program ) कहते है हिंदी में कम्प्यूटर संगणक भी कहा जाता है और कम्प्यूटर के लिए हम लोग ( P.C) शब्द का भी प्रयोग करते है P.C एक अंग्रेजी शब्द है जिसका मतलब होता है (Personal Computer ) मतलब व्यक्तिगत कम्प्यूटर आप में से बहुत से लोग (Shared Computer) का नाम जरूर सुना होगा।
कम्प्यूटर क्या है
कम्प्यूटर क्या है 


शेयर्ड कम्प्यूटर एक ऐसा कम्प्यूटर है जिसे कई भिन्न -भिन्न लोग उपयोग करते है  विशेष रूप से इसका तात्यपर्य उस कंप्यूटर से है जो सार्वजनिक या साझा उद्देश्य के लिए उपलब्ध होता है जैसे - पुस्तकालय , इंटरनेट और गेमिंग पैकेज और सार्वजनिक स्थानों पर पाए जाने वाले कम्प्यूटर।

पर्सनल कम्प्यूटर माइक्रो कम्प्यूटर समानार्थक से जाने वाले वैसे कम्प्यूटर प्रणाली है जो विशेष रूप से व्यक्तिगत अथवा छोटे समूह के द्वारा प्रयोग में लाये जाते है। इन कम्प्यूटर को बनाने में माइक्रोप्रोसेसर मुख्य रूप से सहायक होते है पर्सनल कम्प्यूटर निर्माण विशेष क्षेत्र तथा कार्य को ध्यान में रखकर किया जाता है उदाहरण - घरेलु कम्प्यूटर तथा कार्यालय में प्रयोग किये जाने वाले , बाजार में छोटे स्तर की कम्पनिया अपने कार्यालयों के कार्य के लिए पर्सनल कम्प्यूटर को प्राथमिकता देते है।


पर्सनल कम्प्यूटर के कुछ व्यवसायिक कार्य


1. कम्प्यूटर सहायक रुपरेखा तथा निर्माण

2. इन्वेंट्री तथा प्रोडक्शन कंट्रोल

3. स्प्रेडशीट कार्य

4. एकाउंटिंग 

5. सॉफ्टवेर निर्माण

6. वेबसाइट डिजाइनिंग तथा निर्माण

7. सांख्यिकी गणना

कम्प्यूटर का प्रकार



वर्तमान के कम्प्यूटर इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल है इनमे मुख्य रूप से तार ट्रांजिस्टर और सर्किट का उपयोग किया जाता है जिसे हार्डवेयर कहा जाता है और कम्प्यूटर जिस निर्देश पर काम करता है उसे डेटा या सॉफ्टवेयर कहा जाता है कम्प्यूटर अपने काम -काज प्रयोजन या किस उपदेश और रूप -आकर के आधार पर विभिन्न प्रकार के होते है।

कम्प्यूटर के प्रकार को सीधे -सीधे वर्गीकरण करना कठिन है इसलिए हम तीन आधारों पर वर्गीकृत करते है

1. अनुप्रयोग (Application)

2. उद्देश्य ( Purpose)

3. आकार (Size )

 अनुप्रयोग (Application) के आधार पर कम्प्यूटरो  के प्रकार यदि कम्प्यूटर के अनेक अनुप्रयोग है लेकिन प्रमुख अनुप्रयोगों के आधार पर कम्प्यूटर तीन प्रकार के होते है

1. एनालॉग कम्प्यूटर

2. डिजिटल कम्प्यूटर

3. हाईब्रिड कम्प्यूटर

उद्देश्य के आधार पर कम्प्यूटर के प्रकार


कम्प्यूटर को उद्देश्य के लिए हम स्थापित कर सकते है

1. सामान्य -उद्देशीय कम्प्यूटर

2. विशिष्ट - उद्देशीय कम्प्यूटर

आकर के आधार पर हम कम्प्यूटरो को निम्न श्रेणियाँ प्रदान कर सकते है


1. माइक्रो कम्प्यूटर

2. वर्क स्टेशन

3. मिनी कम्प्यूटर

4. मेनफ्रेम कम्प्यूटर

5. सुपर कम्प्यूटर

पर्सनल कम्प्यूटर एक ऐसा माइक्रो कम्प्यूटर है जो विशेष रूप से व्यक्तिगत अथवा छोटे समूह के द्वारा प्रयोग में लाये जाते है इस कम्प्यूटर को बनाने में माइक्रो प्रोसेसर मुख्य रूप से सहायक होते है पर्सनल कम्प्यूटर निर्माण विशेष क्षेत्र तथा कार्य को ध्यान में रखकर किया जाता है जैसे - घरेलू कम्प्यूटर तथा कार्यालय में प्रयोग किये जाने वाले कम्प्यूटर। पर्सनल कम्प्यूटर के मुख्य कार्यो में गेम खेलना और इंटरनेट का प्रयोग आदि।

कम्प्यूटर का मुख्य कार्य हमारे द्वारा दिए गये डाटा को स्टोर कर उस पर कार्य कर के हमें परिणाम देना और इसी आधार पर उन्हें कार्य क्षमता के आधार पर कुछ श्रेणिओ में बाटा गया है वह है - सुपर कम्प्यूटर ,मेनफ्रेम कम्प्यूटर ,मिनी कम्प्यूटर और माइक्रो कम्प्यूटर आदि। सुपर कम्प्यूटर इनमे सबसे बड़ी श्रेणी होती है तथा माइक्रो कम्प्यूटर सबसे छोटी।

मेनफ्रेम कम्प्यूटर


सुपर कम्प्यूटर से कार्यक्षमता में छोटे परन्तु फिर  भी शक्तिशाली होते है इस कम्प्यूटर एक खास बात यह है की इस कम्प्यूटर पर एक समय में 256 से अधिक लोग एक साथ काम कर सकते है अमेरिका की I.B.M ( INTERNATIONAL BUSINESS MACHINE CORPORATION ) कंपनी मेनफ्रेम कम्प्यूटर बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी है।

सुपर कम्प्यूटर



यह सबसे तेजी से कार्य करने वाले कम्प्यूटर होते है यह बहुत अधिक डाटा (Data) को काफी काम समय में इन्फॉर्मेशन में बदलने में सक्षम होते है। इस कम्प्यूटर का प्रयोग बड़े -बड़े कार्य करने में होता है जैसे - मिसाइलों के डिजाइन , मौसम की जानकारी , डाटा माइनिंग अदि कार्यो इस्तेमाल किया जाता है

सुपर कम्प्यूटर में अनेक माइक्रोप्रोसेसर ( MICROPROCESSOR ) एक विशेष छोटी मशीन जो कम्प्यूटिंग के कार्य को काफी आसानी से तथा बहुत ही कम समय में कर सकने में सक्षम होती है किसी जटिल गणना को कम समय में पूरा करने के लिए बहुत से प्रोसेसर एक साथ काम करने पड़ते है इससे पैरेलेल प्रोसेसिंग कहा जाता है इसके अंतर्गत जटिल काम को छोटे -छोटे टुकड़ो में इस प्रकार बटा जाता है

मिनी कम्प्यूटर


यह कम्प्यूटर मेनफ्रेम से छोटे परन्तु माइक्रो कम्प्यूटर से बड़े होते है

माइक्रो - कम्प्यूटर


(पर्सनल कम्प्यूटर ) सबसे छोटे होते है तथा इन्ही को पर्सनल कम्प्यूटर कहा जाता है इसका प्रथम संस्करण 1981 में विकसित हुआ था जिसमे 8088 माइक्रो प्रोसेसर प्रयुक्त हुआ था।


कम्प्यूटर के गुण


कम्प्यूटर हमारे द्वारा दिए जाने वाले हर कार्य को बखूबी करने में सक्षम होते है कम्प्यूटर काफी तेज से कार्य करते है जब हम कम्प्यूटर के बारे में बात करते हैतो  तो हम सेकेण्ड माइक्रो सेकण्ड में बात नहीं करते बल्कि हम 10 -12 सेकेण्ड में एक कम्प्यूटर कितना कार्य कर लेता है इस रूप में उसकी गति को आँकते है।

एक सामान्य कम्प्यूटर भी एक बार दिये गये निर्देश को कभी समय तक स्मरण रखने में सक्षम होता है तथा जब भी आवश्यकता पड़े उसे फिर से लिखा और भरा जा सकता है।

मुझे पूर्ण आशा है की मैने आप लोगो को कम्प्यूटर क्या है ( What is Computer in Hindi) के बारे में पूरी जानकरी दी और मैं आशा करता हु आप लोग और कम्प्यूटर के बारे में जानकारी प्राप्त करे जिससे समाज में कम्प्यूटर ज्ञान का होना बहुत जरुरी है जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी मेरा आप सभी पाठको से गुजारिश है की आप लोग इस जानकारी को अपने आस -पड़ोस ,रिश्तेदारों और अपने मित्रो में जरूर Share करे  धन्यवाद।  
Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
19 April 2019 at 10:24 ×

Computer ke bare me sir thoda aor batavo

Congrats bro Learn tips and tricks you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar